e-Mail : abpcp1946@gmail.com                 English Version
अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद
 

प्राकृतिक चिकित्सक बने

आचार्य विनोबा भावे के छोटे भाई श्री बालकोवा भावे के द्वारा सन् 1946 में स्थापित गांधी संस्थान से अपना भविष्य निखारे संस्था के द्वारा साढ़े तीन वर्षीय डी एन वाय एस (DNYS) कोर्स द्वारा एक सफल चिकित्सक के रूप में सेवा कार्य कर जन कल्याण का कार्य करे।

सूचना-संदेश
स्वास्थ्य मेले में आये 25-04-2016

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार ध्यान केंद्रित स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जाता है। abpcp भी इस स्वास्थ्य मेले में भाग ले रहा है। यह मेला 27,28,29,30 अप्रैल को प्रातः 9.30 से शाम तक रहेगा। असमें abpcp के द्वारा सारणी भी प्रदान करी जायेगी। कृपया हेल्थ मेला के लिए सेक्टर 19,  जेल के विपरित रोहिणी, नई दिल्ली में आयें।

हम फूड प्लाजा दिखाने के लिए सभी प्राकृतिक चिकित्सक को आमंत्रित करना। 

आप इसे हर दिलचस्पी लोगों को सूचित करें।

मेट्रो स्टेशन के बादली के माध्यम से मार्ग का उपयोग कर सकता है।

आचार्य CCRYN


चिकित्सा एवं योग में उपाधि-पत्र
प्रचलित पाठ्यक्रम
  1. C.E.N.Y. (6 माह )
  2. C.N.Y.T. (एक वर्षीय)
  3. D.N.Y.S. (3 वर्षीय व छह माह का कार्य)
Post your Artrical
"चांदी और सोने के टुकड़े नहीं, स्वास्थ्य ही वास्तविक धन हैं। एक रोगग्रस्त व्यक्ति की व्यक्तिगत प्रयास से ही अच्छे होने की संभावना हो सकती है वह कभी दूसरों से स्वास्थ्य उधार नहीं ले सकता।"
Mahatma Ghandhi (बापूजी)

सदगीपूर्ण व दिव्य जीवन शैली

अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद का मुख्य उद्देश्य शिक्षित नागरिकों के माध्यम से प्राकृतिक एवं योग चिकित्सा के वैज्ञानिक ज्ञान का प्रचार-प्रसार करना है। हमारी योजना अच्छे स्वास्थ्य के लिए गांधीवादी विचारों को समाहित करते हुये कुदरती उपचार व योग के सिद्धान्तों को पूरे विश्व में समाज के अन्तिम छोर तक पहुँचाना है।

Founder President

Balkoba Bhave Our institute is a Gandhiyan institute which had Estb in 1946 as per the instruction and guidance of Babuji by Shri Vinoba Bhawe and the first president to this was Shri Balko ba Bhave, younger brother to Shri Vinoba Bhave.

Read more

History of Istitution

राजघाट गोधीवादी दर्शन की एक अग्रणी संस्थान है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के उन 21 स्वपनीय कार्य में से एक है, जिन्हे वे हकीकत मे होता देखना चाहते थे। अपने पंच तत्व और रामनाम के अचुक उपचार प्रक्रिया के कारण प्रकृति द्वरा उपचार प्रक्रिया के ज्ञान के प्रासार मे समर्पित है। देश के प्रथम राष्ट्रपति बाबूजी व श्री विनोबा भावे के निदेश व मार्गदर्शन में 1946 मे स्थापित यह एक गांधीयन सस्थान है।

Read more

Ask n Answer

क्या संस्थान मान्यताप्राप्त है?

समाज अधिनियम 1860 के तहत हमारा संस्थान एक स्वायत्त निकाय ट्रस्ट द्वारा चलता है।

Artical Up Comming Events News

भारत वर्ष क्या पूरे विश्व में प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग अनादिकाल से है ?

हमारे पूर्वजों एवं ऋषि मुनियों के द्वारा समय - समय पर इसके प्रयोग किये परन्तु इस पद्वति का दुर्भाग्य रहा कि आधुनिक चिकित्सा प्रणाली के चलते यह पद्धति दबकर रह गई। ....